izcU/kd dh dye ls

प्रिय बंधुवर,

मेरे शिक्षक रहते हुए हमने अपने सपने को विद्यालय रूप में साकार किया है इसे आप लोगों का बहुत ही स्नेह मिला आप लोगों के स्नेह से ही हमें बल मिला और इसे ऊपर तक ले जाने में मै सक्षम हुआ यह विद्यालय हमारे आसपास के अशिक्षित वातावरण को शिक्षित करने में हमारा यह छोटा सा योगदान निश्चित रूप से आप सभी को आगे ले जाएगा इस बंजर भूमि पर बना यह विद्यालय जो विद्या की एक अखंड ज्योति है और यह ज्योति सदैव इस धरा पर इस समाज को प्रकाशित करती रहेगी मैं इसमें और भी घी डाल सकूं यह मेरी सदैव इच्छा रहेगी आप लोगों की शिक्षा के लिए शिक्षा जगत के लिए यहां से आते जाते समय हमारे आस पड़ोस की अशिक्षित समाज को देखकर सदैव मन में टीस रहती थी जो मैंने एक छोटी सी संस्था डालकर इस टीस को कम करने का प्रयास किया है और मैं आजीवन इन सामाजिक कार्यों के लिये तत्पर भी रहूंगा आप लोगों के स्नेह का आकांक्षी आपका प्रताप नारायण तिवारी

                                                                                                                                                               संस्थापक एवं प्रबंधक

                                                                                                                                                   सूर्य प्रताप इंटर कॉलेज सुखदेव नगर

Importent Notice